सोमवार, 8 अगस्त 2011

महकती सी याद…

एक पुराना गुलाब,
जब निकला मेरी किसी किताब से,
महक उठा मेरा सारा जहाँ|
कुछ पंखुड़ियों में ही सही,
पर वो तुम्हारा सारा प्यार,
आज भी मेरे पास,
कितना रोशन  है|
purana-gulab
पर जब हाथ से उठाकर,
चूमना चाहा उसे,
तो एक टुकड़ा, वैसे ही
टूट कर,
अलग हो पड़ा,
जैसे कतरा-कतरा,
तुम मुझसे दूर होती गयीं|

रख दिया है सहेज कर,
उसे फिर उसी किताब में,
कि फिर कभी
एक और टुकड़ा तोडूंगा ,
और फिर  से जियूँगा,
आज तो जिंदगी,
महज़ इतनी ही काफी है….
-देवांशु

4 टिप्‍पणियां:

  1. bahut hi sundar
    bahut hi sunder piroya hai aap ne
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahuta chha likha hai...bhaavuk rachna...


    humaara bhi hausla badhaaye:
    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/2011/08/blog-post.html

    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/2011/08/blog-post_04.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं