गुरुवार, 21 जुलाई 2011

एक सिक्का प्यार का…

वो चंद सिक्के,
जो तुमने कभी ,
बड़े अपनेपन से,
लड़ झगड़ कर,
उस सड़क किनारे बैठे,
चाय वाले से वापस लिए थे |

चाय कुछ ज्यादा,
मीठी हो गयी थी,
और बारिश केवल छू के गुज़री थी,
भीगा तो मै सिर्फ,
तुम्हारे प्यार में था|


थोड़ा सा ही था प्यार,
और ज़रा सा,
इकरार…
Pyar-hua-iqrar-hua
और फिर जब तुम,
चली गयी मेरी दुनिया से,
वो चाय वाला भी ,
हँसता सा दिखता है मुझपे|


और मैं,
अक्सर फैला लेता हूँ,
वही सिक्के,
अपने बिस्तर पर,
की इन्ही में तो था,
वो हक, वो एहसास|


सोंचता हूँ ,
एक दिन इन्हें उसी,
चाय वाले को दे आऊँगा..
कि कभी तो तुम आओगी वहाँ,
इन सिक्कों से ही सही,
मुझे याद कर लेना,
इनकी कीमत अदा हों जायेगी…..
-- देवांशु

5 टिप्‍पणियां:

  1. bahut hi sundar peskas
    आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सेंटी करके छोड़ोगे. तुम भी ना जालिम हो...

    उत्तर देंहटाएं
  3. chho liyaa dil ko aapne...

    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं