रविवार, 26 जून 2011

आशियाँ…


एक माहिर तामीरत की तरह,
किसी कोरे कागज पर,
आड़ी टेढ़ी सी लकीरें खींच,
बनाया एक ईमारत का
नक्शा|
नीव-ए-उम्मीद बड़ी मेहनत से
रखी और सींची,
खडीं की चाहतों की
चार दिवारी,
एक एक कोने को,
आसमान के
खालिस सितारों से सजाया|
तैयार है मेरे सपनों का,
छोटा सा आशियाँ,
“तुम" आकर देख तो लो,
यकीनन “महल" बन जायेगा….
                                                                --देवांशु

6 टिप्‍पणियां:

  1. ओह्ह्ह हो...बहुत खूब...गज़ब ढा रहे आज तो..:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपनी दुनिया में जब खुश हो तुम
    मेरी इन आंखों में नमी रहने दो,
    पाया सब कुछ जो मांगा खुदा से
    बस एक तेरी यह कमी रहने दो.

    --- कृष्णा

    उत्तर देंहटाएं
  3. “तुम" आकर देख तो लो,
    यकीनन “महल" बन जायेगा
    किसी के होने से ज़िन्दगी में क्या फर्क पड़ता है को बयां करती आपकी ये रचना अप्रतिम है...बधाई स्वीकारें...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर भाव ...प्रभावित करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप का बलाँग मूझे पढ कर आच्चछा लगा , मैं बी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    मै नइ हु आप सब का सपोट chheya
    joint my follower

    उत्तर देंहटाएं