गुरुवार, 18 अक्तूबर 2012

इंतज़ार है !!!!

किसी रोज़ यूँ भी होगा,

तुम बैठोगी मेरे कमरे की खिड़की पर,

और आसमां पर लटका चाँद शरमा जायेगा !!!!

 

कि होगा कुछ यूँ भी,

तुम गुनगुनाओगी कोई नगमा अपने बाल बनाते हुए,

और हवा में खुशबू खिल पड़ेगी, फ़ैल जाएगी !!!

image 

हाँ, होगा ये भी,

जब लुढ़काओगी चावल से भरा हुआ वो कलश अपने पैरों से ,

ये घर तुम्हारी बासमती से महक उठेगा !!!!

 

और ये तो हर रोज़ होगा,

जब इबादत में झुकेंगी हमारी नज़रें,

हर नूर बरस उठेगा , हम दोनो की ज़िंदगी में|

 

मुझे इंतज़ार है उस दिन का , हाँ  इंतज़ार !!!!

51 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसे ही बैठकर फिल्मी ख़याल लिखते रहे तो हो चुकी वेटिंग कन्फर्म .

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्यारभरी रचना...
    शुभकामनाएँ...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाँ, होगा ये भी,

    जब लुढ़काओगी चावल से भरा हुआ वो कलश अपने पैरों से ,

    ये घर तुम्हारी बासमती से महक उठेगा !!!!... छुईमुई से भाव

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. अरे ऐसे कैसे :)
      कुछ बातें तो एक्सक्लूजिव होती हैं दोस्त :)

      हटाएं
  5. छोटी छोटी ख्वाहिशों से ही ये ज़िंदगी महकती है, खिलती है...निखरती है...~बहुत सुंदर रचना !
    ~सादर !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ ज़िंदगी की इन्ही ख्वाहिशें ही जीते रहने के लिए काफी होती हैं और हम ना जाने कहाँ कहाँ खोये रहते हैं !!!

      हटाएं
  6. बड़ा प्यारा खूबसूरत सा इतंजार है !

    उत्तर देंहटाएं

  7. तुम्हारे काबिल दोस्त भी इंतजार पसंद हैं और लिखते हैं
    उसकी बिंदी के तो हिलने का
    मैं इंतज़ार करता था, की कब वो
    हल्का सा हिले और मैं बोलूँ
    की "रुको! बिंदी ठीक करने दो"।

    तुम भी लिखते हो इंतजार का शंखनाद कर रहे हो। देश की ’जुवा’ पीढ़ी कब तक इंतजार करेगी?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब देख लीजिये , पूरी पीढ़ी ही इंतज़ार में लगी पड़ी है, कुछ करना पड़ेगा कोई आन्दोलन चला देते हैं !!! :) :)

      हटाएं
    2. आगे बढ़ो जवान. हम तुम्हारे साथ हैं :)

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. धन्यवाद , हम भी इसी इंतज़ार में हैं :) :)

      हटाएं
  9. कल 21/10/2012 को आपकी यह खूबसूरत पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह.....
    ये घर तुम्हारी बासमती से महक उठेगा !!!!

    यकीनन होगा...ज़रूर होगा...
    वो पढ़ ले ये नज़्म..बस्स्स्स्स्स्स्स्स्स

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर भावों से सजी रचना... एक नजर इधर भी... http://www.kuldeepkikavita.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. wah !khubsoorat sooch....jaroor mehkega apka ghar angan....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूब,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं